कछुवा और घमंडी खरगोश की कहानि हिंदी में जानकारी स्टेप by स्टेप

कछुवा और घमंडी खरगोश की कहानि हिंदी में जानकारी स्टेप by स्टेप

दोस्तों आज में  कछुवा  और घमंडी  खरगोश की कहानि ले कर आया हूँ |में आशा करता हूँ की कछुवा  और घमंडी  खरगोश की कहानि आपको बहुत पसंद आएगीबहुत समय पहेले की बात हें.किसी जंगल में एक खरगोश रहता था. उसे अपनी तेज़ गती पर बहुत  घमंड हो गया. उसे जो भी  मिलता वह  रेस का challenge दे देता. सभी प्राणी उसके इस व्यव्हार से खुस नहीं  थे | इसलिए उन्होंने दुसरे सभी जानवरों  से मिलकर खरगोस को हराने  की सोच ली| तब वे कछुवे के पास गए और खरगोस की करतूतों को बताया  तब बहुत कुछ सोचकर कछुवे  ने खरगोश का challenge एक्सेप्ट किया.

कछुवा और घमंडी  खरगोश की कहानि हिंदी में जानकारी स्टेप by स्टेप

दोनों के बिच में रेस हुई खरगोश बहुत आगे निकल गया उसने पीछे मुड कर देखा दूर-दूर कोई  नज़र नहीं आया उसने सोचा की थोड़ी देर आराम कर लेता हु वह एक पैड के निचा लेट गया वह सो गया. लेकिन  कछुवा धिरे -धिरे मगर लगातार चलता रहा जब खरगोश सो कर उठा तब तक कछुवा finishing लाइन पार कर चूका था

कछुवा और घमंडी  खरगोश की कहानि

Moral of the story : Slow and study wins the race.

translation –   धीमा और लगातार चलने से आप कोई भी रेस जीत सकते हो.

  1. घमंडी कछुवा और खरगोश की कहानि हिंदी मेंजानकारी स्टेप by स्टेप

खरगोश अपनी हार पर चिंतित हो जाता हें. उसे समज आ गया की वो बहुत ही over  comfident हो गया है| .

उसे अपनी मंजिल की डोर को पार करके ही रुकना चाहिए था.कई दिनों बाद उसने कछुवे  को फिर से रेस का challenge दिया कछुवा पहली रेस जित कर आत्मविश्वास से भर गया और रेस करने के लिए तेयार हो गया |

रेस होती है  खरगोश इस बार बिना  रुके लास्ट तक दोडता है  और कछुवा को हरा देता है|

कछुवा और घमंडी  खरगोश की कहानि हिंदी में जानकारी स्टेप by स्टेप

moral :fast consistent will always beat the slow and steady|

translation : मतलब की slow एंड स्टेडी होना अछी बात है लकिन फ़ास्ट एंड consistent होना और भी अछी बात है

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *